Suraj Prakash
 
मैं बहुत अरसे तक इस भ्रम में रहा कि मैं औरों से बेहतर इन्सान हूं। सही समझ रखता हूं, सही वक्त पर सही फैसले करता हूं और संतुलित जीवन जीता हूं। मैं ये भी मान कर चलता रहा कि मैं टुच्चा तो नहीं ही हूं बेशक कुछेक कमज़ोरियां मुझ में रही हों। मैं इस मु्गालते में भी रहा कि जिस तरह मैं अपनी निगाह में बेहतर इन्सान हूं, दूसरों की निगाह में भी मैं उतना ही श्रेष्ठ, बेहतरीन और अनुकरणीय हूं।
प्रसंगवश

» खब्‍बू दिवस

» दिल्‍ली पूछे चार सवाल

» बहुत बड़े अफसर की तुलना में छोटा लेखक होना बेहतर है

» बाबा कार्ल मार्क्स की मज़ार बरसात और कम्यूनिस्ट कोना

» बायें हाथ से काम करने वालों का दिन

» मुंबई का साहित्यिक परिदृश्य इधर से भी देखें

» लंदन में मुलाकात नवाज़ शरीफ़ से

 

 
Copyright © 2009 Suraj Prakash. All Rights Reserved. A Website by Pratham