Suraj Prakash
 
मैं बहुत अरसे तक इस भ्रम में रहा कि मैं औरों से बेहतर इन्सान हूं। सही समझ रखता हूं, सही वक्त पर सही फैसले करता हूं और संतुलित जीवन जीता हूं। मैं ये भी मान कर चलता रहा कि मैं टुच्चा तो नहीं ही हूं बेशक कुछेक कमज़ोरियां मुझ में रही हों। मैं इस मु्गालते में भी रहा कि जिस तरह मैं अपनी निगाह में बेहतर इन्सान हूं, दूसरों की निगाह में भी मैं उतना ही श्रेष्ठ, बेहतरीन और अनुकरणीय हूं।
समीक्षाएं

 

 

» बिराने देश में घर की तलाश

» देस बिराना

» हादसों के बिच रचना

» मानवीय विवशता की कहानिया

» अधूरी तस्वीर मानवीय विवशता की कहानियां

» छूटे हुए घर - संघर्ष, जिजीविषा और प्रेम की कहानियां

» देश बिराना - बदले समय और समाज की सच्चाइयां

» देस बिराना पग पग बिराना

» देस बिराना बेघर होने का संताप

» देस बिराना नये पक्षों का स्पर्श

» देस बिराना एक मुकम्मल की तलाश

» देस बिराना घर की तलाश में

» देस बिराना बिराने देश में घर की तलाश

» देश बिराना निर्वासित जीवन की व्यथा

»हादसों के बीच का जीवन

»हादसों के बीच - दफ्तरी वातावरण का यथार्थ