Suraj Prakash
 
मैं बहुत अरसे तक इस भ्रम में रहा कि मैं औरों से बेहतर इन्सान हूं। सही समझ रखता हूं, सही वक्त पर सही फैसले करता हूं और संतुलित जीवन जीता हूं। मैं ये भी मान कर चलता रहा कि मैं टुच्चा तो नहीं ही हूं बेशक कुछेक कमज़ोरियां मुझ में रही हों। मैं इस मु्गालते में भी रहा कि जिस तरह मैं अपनी निगाह में बेहतर इन्सान हूं, दूसरों की निगाह में भी मैं उतना ही श्रेष्ठ, बेहतरीन और अनुकरणीय हूं।
शहरनामा

 

 

» एक फर्लांग का सफरनामा

» बंबंई मेरी निगाह में

» सांस सांस में बसा मेरा देहरादून

» अमदावाद एटले अमदावाद

» अहमदाबाद डायरी के कुछ पन्ने

» बार नवा पारा

» कैसे मिलती थी शराब अहमहाबाद में

» गोरखपुर की डायरी के पन्ने जो

» मुंबई का साहित्यिक परिदृश्य इधर से भी देखें

सभी अनुवाद को डाउनलोड करें.