Suraj Prakash
 
मैं बहुत अरसे तक इस भ्रम में रहा कि मैं औरों से बेहतर इन्सान हूं। सही समझ रखता हूं, सही वक्त पर सही फैसले करता हूं और संतुलित जीवन जीता हूं। मैं ये भी मान कर चलता रहा कि मैं टुच्चा तो नहीं ही हूं बेशक कुछेक कमज़ोरियां मुझ में रही हों। मैं इस मु्गालते में भी रहा कि जिस तरह मैं अपनी निगाह में बेहतर इन्सान हूं, दूसरों की निगाह में भी मैं उतना ही श्रेष्ठ, बेहतरीन और अनुकरणीय हूं।
मेरी कहानियां 

 

 

» शिब्बू            

» राइट नम्बर राँग नम्बर

» रंग–बदरंग

» यह जादू नहीं टूटना चाहिए

» मेरे हिस्‍से का घर

» मर्द नहीं रोते

» बाबू भाई पंड्या

» बाजीगर

» फैसले

» फर्क

» पत्‍थर दिल

» दो जीवन समान्तर

» देश, आज़ादी की पचासवीं वर्षगांठ

» दिव्या, तुम कहाँ हो

» डर

» टैंकर

» छोटे नवाब बड़े नवाब

» छूटे हुए घर

» घर बेघर

» क्या आप ग्रेसी राफेल से मिलना चाहेंगे

» किराये का इद्रधनुष

» करोडपति

» आँख मिचौली

» अल्बर्ट

» पत्‍थर दिल

» अधूरी तस्वीर

» खो जाते हैं घर

» उर्फ चंदरकला

» मातम पुर्सी

» सही पते पर

» भंवर

» डरा हुआ आदमी

» मछली

» एक कमज़ोर लड़की की कहानी

» खेल खेल में

» कोलाज

सभी कहानियों को डाउनलोड करें.